Posted by: chawlamahender | November 4, 2008

गुरु के नाम पर कलंक है….आसाराम बापू

भारत भूमि संतों-महातमाऒ, ऋषियों-मुनियों की भूमी है। समय समय पर भगवान ने भी इस पावन धरा आवतरित होकर इसके गौरव व गरिमा को चार चांद लगाए हैं। कितने ही ऐसे महापुरुष हुए जिनको भगवान का आवतार माना जाता है जैसे कि जगत गुरु शंकराचायॆ जी, संत कबीर, गुरु नानक देव जी आदि।
परंतु किसी ने भी न तो सवयं को भगवान कहा और न ही खुद की पूजा करवाई। वो जीवन भर शांति और भाईचारे का संदेश देते रहे। उनहोंने कभी भी हिंसा का सहारा नही लिया। उनहोने पूरा जीवन मानवता की भलाई के लिए लगा दिया। वो हमेशा मान- सममान, धन व पराई औरत से दूर रहे।
किंतु आज समय विपरीत हो गया है। आज के समय में आसाराम बापू जैसे ढोंगी,पाखंडी व धुरत लोग जो संत भी कहलाने के लायक नही वो खुद को भगवान बताते हैं एंव भगवान की पूजा छुडवाकर खुद की पूजा करवाते हैं। धरम के नाम पर जनता को लुटते हैं।
भगवान की पूजा छुडवाकर खुद की पूजा करवाने की यह बात नई नही है वरन बहुत पुरानी है। हिरणाकशप ने भी भगवान विषणु की पूजा छुडवाकर खुद की पूजा पर जोर दिया। रावण व कंस ने भी विषणु जी का हमेशा ही विरोध किया। परंतु आज समय बदल गया है तो सवाभाविक बात है कि तरीका भी बदल जाएगा।
आज के समय मे आसाराम गुरु के नाम पर भगवान की पूजा छुडवाकर खुद की पूजा करवाता है। जिस वयाभिचारी ने कभी भी खुद के गुरु की पूजा नही की वो ही वयाभिचारी आज गुरु घंटाल बन बैठा है। जिस वयाभिचारी को सांई लीलाशाह जी ने उनके आशरम से भगा दिया था वो गुरु घंटाल आसाराम आज गुरु के नाम पर खुद की पूजा करवाता है। ये तांत्रिक आसाराम आज भगवान के नाम पर लाखों लोगों की भावनाऒं से खिलवाड करता है। ये तांत्रिक आसाराम जो खुद कभी गुरु पुनम पर भी गुरु सथान पर नही जाता, जो कभी खुद के गुरु की पूजा नही करता और आज खुद की पूजा करवाने के लिए आब गुरु महिमा गाने लगा है। गुरु के नाम पर कलंक है…..आसाराम बापू
इस तांत्रिक आसाराम का लडका नारायण सिंधी यानी छोटा तांत्रिक भी बाप के नकसे कदम पर है।
बाप जेवा बेटा…………..वड तेवा टेटा………..
आदि जगतगुरु शंकराचायॅ, माधवाचायॅ, गुरु नानक देव जी, संत कबीर आदि जितने भी सचचे महापुरुष हुए हैं उनहोंने न तो खुद को भगवान कहा और न ही भगवान की पूजा छुडवाकर खुद की पूजा करवाई। उनहोने हमेशा ईशवर पूजा व पृभु सिमरन का ही संदेश दिया। धरम व गुरु के नाम पर उनहोने कभी भी न तो ईशवर बनने की कौशिश की और न ही जनता की षरधा का दुरुपयोग किया।
जबकि ये तांत्रिक आसाराम धरम व गुरु के नाम पर जनता का शोषण कर रहा है। आसाराम की ये करतूत हिंदू धरम, सनातन धरम, भारतीय संसकृति पर बहुत बडा आघात है। हमें अपनी भारतीय संसकृति व मानवता को कलियुग के इस रावण से, कलियुग के इस हिरणाकशपु से, कलियुग के इस कंस से बचाना होगा।
इसके लिये हिंदु संगठनो एंव संत समाज को आगे आना होगा। भारत के युवा समाज को आगे आना होगा।
उठो ……..भारत के नवजवानो, जागो………………कब तक सोते रहोगे ? अपनी संसकृति पर ये कुठाराघात कब तक सहन करोगे ? कब तक आसाराम जैसे पाखंडी लोग आपकी संसकृति पर चोट करते रहेंगे………..कब तक………. आखिर कब तक………….? आज आपकी भारतभूमि , आपकी मातृभूमि आपको पुकार रही है। आज मातृभूमि को तुमहारी जरुरत है।
जय भारत जय माँ
वंदे मातरम्


Responses

  1. भावों की अभिव्यक्ति मन को सुकुन पहुंचाती है
    लिखते रहिए लिखने वाले की मंज़िल यही है }
    कविता और गज़ल के लिए मेरे ब्लोग पर स्वागत है।
    for art visit my daughters blog
    http://www.chitrasansar.blogspot.com
    for our magzine visit
    http://www.zindagilive08.blogspot.com

  2. दोस हमारा ही है जिन्हें हम भगवान् की तरह पूजते है सारा दोष हमारा और आपका है किसी को सुनना और बात है सुनाने वाले को पूजना दूसरी बात है वदलाव की आवश्यकता है

  3. और तथ्यात्मक सूचनाएं दें

    visit my blog

    http://gyansindhu.blogspot.com

  4. ब्लोगिंग जगत में आपका स्वागत है. खूब लिखें, खूब पढ़ें, स्वच्छ समाज का रूप धरें, बुराई को मिटायें, अच्छाई जगत को सिखाएं…खूब लिखें-लिखायें…

    आप मेरे ब्लॉग पर सादर आमंत्रित हैं.

    अमित के. सागर
    (उल्टा तीर)

  5. ye to hona hi tha


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Categories

%d bloggers like this: