Posted by: chawlamahender | October 27, 2008

आसाराम बापू की दीवाली…………

जैसा कि मै आपको पहले बता चूका हूं कि मै सात साल तक आसाराम बापू के आशरम मे रह चूका हूं। आईए आपको आसाराम की दीवाली के बारे मे कुछ रोचक चीजें बताएं………………
                                                     आप सभी लोग जानते हैं कि आसाराम को दशिणा मे शाल,कबंल,लोई, सूखा मेवा आदि बहुत बडी संखया मे मिलता है लेकिन आसाराम उस सामान का कया करता है……………..?
                                                     आसाराम के लगभग सभी आशरमों मे दीवाली के दिन दुकान लगाई जाती है और उन दुकानो पर आपके (भगतों के) दिए गए शाल , कबंल आदि को बेचा जाता है। जब मै वंहा पर था तब तो ये धंधा होता था , आज कयोंकि ये मैने बलाग लिख दिया है इसलिए इसबार पता नहीं दुकान खुलेगी या नही ?
                                                     लोग शरधा से नारियल दे जाते हैं और आसाराम उनकी मिठाई बनाकर बेचता है। एक तरफ तो आसाराम मिठाई न खाने की सलाह देता और दुसरी तरफ उसके ही आशरम मे मिठाई बेचता है।
                          लोग शरधा से सामान दे जाते हैं और आसाराम उस सामान से लाखों रुपये कमाता है। आशरम के लडको को मिठाई नही दी जाती । शरदी मे कितने लडकों के पास सवेटर और जरसी होती है ये भी आप जाकर सरवे कर सकते हैं………….?
                                                    आसाराम के पास  सवेटर और जरसी की कोई गिनती नही है लेकिन लडकों को एक सवेटर भी बडी मुशकिल से नसीब होता है। शरदी के कारण पैर फट जाते हैं लेकिन जूते नही मिलते। यदि किसी को जूता डालना है तो उसके खुद के घर से ही मंगवाना पडता है।
                           आसाराम लडकों से मजदूरी करवाता है, उनके जरिए पैसा कमाता है और ऐश करता है , मौज मनाता है एवं दुनिया के सामने संत बनने का नाटक करता है।
                           जैसे जरासंध की जेल बहुत से राजा कैद थे उसी तरह आसाराम के आशरम मे भी बहुत से लडके और लडकियां आंधी विशवास के कारण फंसे हुए हैं।
                           तो आइए हम सब भगवान की वंदना करें ताकि सभी लडके एवं लडकिया आसाराम की मानसिक जेल से बाहर निकले एंव उनके – उनके घर जाएं ताकि उनके माता भी दिवाली मना सकें।
                                                                                                               वंदे मातरम


Responses

  1. It is India, our Great nation where these kinds of corruptions in All sphares are going on. In the name of Spirituality, Dhyan, Sant Mahatma these are the easier way to exploit the innocent people of country. I agree and accept that many Yogis and spiritualist are awakened soul and realized soul. But when I read the statement of Chawlamahender about Asharam, I felt person like Asharam and his Son and groups, the so called saints are Beast in the form of Human being. These people are many Ravanas in this era. Those who are innocents working for their Ashram should be released from there. Media should also take active role to reveal the hidden truth of Asharam and his alliance

  2. आसारम बापू की जवानी ने बनाई नही कहानी


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Categories

%d bloggers like this: